Poem for self – a children day poem

child within you

  अपने अंदर के बच्चे को ना खो देना तुम, इन रीति रिवाज़ों में इन तीज त्योहारो में इन दुनिया की रस्मो मैं मीठे वादों में अपने अंदर के बच्चे को ना खो देना तुम, शहर की चखा चौन्द मैं …

Read morePoem for self – a children day poem

भीड है भीड मे खो जाने दो

Bheedh Hai Bheedh Main Kho Jaane do!

  भीड है भीड मे खो जाने दो. कुछ अपना सा हो जाने दो. तनहा हूँ मैं , तनहा हो जाने दो. एक बस मकसद है , पूरा हो जाने दो. भीड मे मुझे खो जाने दो वो बड़  रहा …

Read moreभीड है भीड मे खो जाने दो